ट्रिपल मर्डर केस: खतौली पुलिस और क्राइम ब्रांच ने किया खुलासा
| Agency - 22 Apr 2019

हरियाणा के सोनीपत जिले के गांव भैंसवाल रहने वाले निवासी तीन युवकों की हत्या करके बरवाला गांव के जंगल में नलकूप की हौज में डुबोकर की गई थी। जिससे सनसनीखेज वारदात को अंजाम देने के बाद हत्यारोपियों ने तीनों के शवों को उनकी स्कार्पियो से ले जाकर उसे खतौली गंगनहर में धकेल दिया। सड़क हादसे की आड़ में किए गए ट्रिपल हत्याकांड का खतौली पुलिस और क्राइम ब्रांच ने खुलासा किया है। भैंसवाल गांव के बिट्टू की हत्या का बदला लेने को उसके परिजनों ने तीनों युवकों की हत्या कराने के लिए गांव के ही रहने वाले नवीन मलिक को दस लाख रुपये की सुपारी दी थी। जिसमे पुलिस ने ट्रिपल  हत्याकांड में शामिल पांच हत्यारोपियों को गिरफ्तार कर कोर्ट ने जेल भेज दिया है, जबकि चार हत्यारोपी फरार हैं, जिनको पुलिस तलाश करने में जुटी है। पुलिस ने हत्यारोपियों के कब्जे से मृतकों की आईडी भी बरामद की है।
सोमवार को पुलिस लाइन के सभागार में एसपी सिटी सतपाल अंतिल ने प्रेसवार्ता में तिहरे हत्याकांड का खुलासा करते हुए बताया कि17 अप्रैल को खतौली गंगनहर में पड़ी मिली स्कार्पियों से तीन युवकों के शव मिले थे, जिनकी पहचान हरियाणा के जिला सोनीपत के थाना गोहाना सदर के गांव भैंसवाल कलां निवासी प्रदीप पुत्र कृष्ण, रवि और अक्षय के रुप में हुई थी। उन तीनों युवकों की योजना बनाके हत्या करके हादसे का रूप दिया गया था।  

एसपी ने बताया कि वर्ष 2017 में भैंसवाल कलां निवासी प्रवीण उर्फ बिट्टू की गांव के ही प्रदीप पुत्र कृष्ण, रवि आदि ने मिलकर उनकी गोली मारकर हत्या कर दी थी, जिसमें प्रदीप, रवि आदि दस लोग जेल गए थे। 

26 मार्च को नवीन मलिक थाना चरथावल के गांव कुल्हेड़ी में हामिद उर्फ गाल्ली पुत्र गफ्फार से मिला और पांच लाख रुपये की सुपारी में प्रदीप व रवि को मुजफ्फरनगर बुलाने की बात तय कर ली।जिसमे हामिद पूर्व में भैंसवाल गांव में नौकरी पर रहा था और दोनों पक्षों से उसका संपर्क था। हामिद ने प्रदीप व रवि से मुजफ्फरनगर में शराब का ठेका दिलवाने की बात की। हामिद ने बातचीत करके 16 अप्रैल को मुजफ्फरनगर आने के लिए तैयार कर लिया। 15 अप्रैल को नवीन मलिक अपने साथी जिला शामली के थाना कांधला के गांव डांगरौल निवासी विकास जावला पहलवान के साथ हामिद से मिला और उसको बताया कि प्रदीप व रवि को कहां लेकर आना है। उसके बाद नवीन मलिक और विकास जावला ने खतौली क्षेत्र में गंगनहर की पटरी पर उस जगह को देखा, जहां पर प्रदीप व रवि की हत्या करने के बाद गंगनहर में डालना था। 16 अप्रैल को प्रदीप व रवि गांव के ही अपने साथी अक्षय पुत्र रविंद्र को साथ लेकर स्कार्पियो से शामली पहुंचे। हामिद तीनों को लेकर नवीन मलिक के बताए गए स्थान शाहपुर थाना क्षेत्र के गांव बरवाला गेट पर पास पहुंचा। वहां पर पहले से ही बाइक पर थाना शाहपुर के गांव गोयला निवासी गौरव पुत्र राजू गोस्वामी खड़ा हुआ था, जो इनको लेकर गांव बरवाला के जंगल में स्थित नलकूप पर ले गया। नवीन मलिक अपने साथियों के साथ नलकूप पर ही छिपा हुआ था। कार से नीचे उतरते ही नवीन मलिक ने अपने साथियों के साथ तीनों को दबोच लिया। नवीन मलिक ने रवि का गला दबाया, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। मृतक रवि को हौज में डुबो दिया। इसके बाद प्रदीप व अक्षय की भी हौज में डुबो डुबोकर हत्या कर दी। हत्यारोंपियों ने रात के समय स्कार्पियो में अगली सीट पर रवि और पिछली सीट पर प्रदीप व अक्षय का शव रखा। 

नवीन मलिक कार को लेकर खतौली क्षेत्र में बुआड़ा कलां के पास गंगनहर पटरी पर पहुंचा, जहां पर गंगनहर की पटरी की ईंटों की रेलिंग टूटी हुई थी। नवीन ने कार को स्टार्ट करके गियर में डालकर गंगनहर में गिरा दी। पुलिस ने हत्यारोपी हामिद उर्फ गाली, नवीन मलिक, गोयला निवासी जितेंद्र उर्फ जीतू पुत्र राजबीर, सोनीपत के गांव भैंसवाल निवासी जितेंद्र उर्फ सीटू और सतपाल को गिरफ्तार कर लिया। एसपी ने बताया कि पुलिस हत्याकांड में शामिल फरार गांव गोयला निवासी गौरव, गांव भैंसवाल निवासी हरिओम, गांव डांगरौल निवासी विकास जावला और उसके साथी की तलाश में जुटी है। पुलिस ने मृतक प्रदीप के पिता कृष्ण पुत्र सूरजमल निवासी गांव भैंसवाल की तहरीर पर हत्यारोपियों के विरुद्ध हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया है। 


Browse By Tags