गृहकलेश से तंग आकर महिला ने गंगनहर में लगाई छलांग, पति ने खाया जहर
| Agency - 10 May 2019

मुजफ्फरनगर में धमात गंगनहर पर शुक्रवार सुबह ई-रिक्शा से पहुंची महिला ने अपनी सात साल की बच्ची समेत गंगनहर में छलांग लगा दी। राहगीरों ने बच्ची को किसी तरह गंगनहर से बाहर निकाला, लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी, जबकि महिला का सुराग नहीं लगा। उधर, महिला के पति ने भी उसके घर से जाने के कुछ देर बाद जहर खा लिया।

शुक्रवार सुबह करीब दस बजे एक महिला सात साल की बच्ची के साथ ई-रिक्शा से धमात गंगनहर पुल पर पहुंची। यहां महिला ने ई-रिक्शा चालक को किराए के रुपये दिए और बच्ची का हाथ पकड़कर रोते हुए गंगनहर की तरफ चल दी। जब तक कोई कुछ समझ पाता, महिला ने बच्ची समेत पुल की रेलिंग पर चढ़कर छलांग लगा दी। उन्हें गंगनहर में कूदते देख कुछ लोगों ने तत्काल पानी में कूदकर किसी तरह बच्ची को थोड़ी दूरी पर बाहर निकाल लिया, लेकिन महिला पानी में समा गई। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और बच्ची की जांच की, लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। पुलिस बच्ची की शनाख्त के प्रयास कर ही रही थी कि पीएचसी में खेड़की निवासी रामकुमार को जहर खाए जाने के चलते लाए जाने की सूचना मिली।
 

इंस्पेक्टर ने परिजनों को गंगनहर से मिली बच्ची की लाश के फोटो दिखाए तो उन्होंने उसकी पहचान परी के रूप में की। इससे गंगनहर में कूदी महिला की पहचान भी कल्लो पत्नी रामकुमार के रूप में हो गई। इंस्पेक्टर योगेश शर्मा के शब्दों में, पूछताछ में पता चला कि पति-पत्नी में शुक्रवार सुबह किसी बात को लेकर विवाद हो गया था।

इसके बाद कल्लो बेटी परी के साथ बिना किसी से कुछ कहे घर से चली गई। पत्नी के जाने के बाद रामकुमार ने भी जहर खा लिया, जिससे उसकी भी हालत बिगड़ गई। रामकुमार को निजी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है, जबकि गंगनहर में कूदी उसकी पत्नी कल्लो की तलाश की जा रही है। इंस्पेक्टर ने बताया कि रामकुमार के परिजनों ने मामले में पुलिस कार्रवाई से इंकार करते हुए रपट इत्तेफाकिया दी है, जिस पर बच्ची के शव का पंचनामा भरकर शव को परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया है।

 
गांव खेड़की निवासी रामकुमार और कल्लो की शादी करीब 11 साल पूर्व हुई थी। दोनों के परिवार में दो बच्चे बेटा आजाद (9) और बेटी परी (7) हुए, जिसके बाद से पूरा परिवार हंसी-खुशी जीवन यापन कर रहा था। इंस्पेक्टर योगेश शर्मा ने बताया कि पूछताछ में रामकुमार के परिजनों ने बताया कि शुक्रवार सुबह किसी बात को लेकर पति-पत्नी के बीच विवाद हुआ था। परिजनों ने दोनों को समझाने की कोशिश की, लेकिन उनके बीच का विवाद नहीं थमा। आखिरकार सुबह करीब 9.20 बजे कल्लो बेटी परी के साथ गुस्से में मरने की बात कहकर घर से निकल गई, जिसके बाद आत्मग्लानि में रामकुमार ने भी घर में रखा कोई जहरीला पदार्थ खा लिया। महज कुछ देर के गृहक्लेश के चलते एक हंसता-खेलता परिवार चंद क्षणों में बिखर गया, जिससे पूरे परिवार में कोहराम मचा हुआ है। रामकुमार मजदूरी करता है। गांव खेड़की में भी घटना के बाद शोक व्याप्त है।

 


Browse By Tags


Related News Articles