शी चिनफिंग के पत्र से खुश हैं ट्रंप
| Agency - 11 May 2019


वाशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने  कहा कि उन्हें चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग से एक ’’खूबसूरत पत्र’’ मिला है और दोनों देशों के बीच व्यापार वार्ता को बचाने की अब भी गुंजाइश है। दोनों देशों के बीच व्यापार मोर्चे पर एक साल से अधिक समय से मतभेद चल रहे हैं। ट्रम्प ने व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से कहा व्यापार करार अब भी संभव है। दुनिया की दो शीर्ष अर्थव्यवस्थाओं के बीच व्यापार वार्ता कुछ घंटों में फिर से शुरू होने वाली है। ट्रंप ने कहा मुझे कल रात चिनफिंग का खूबसूरत पत्र मिला है। हम मिलकर काम करेंगे और देखेंगे कि शायद इसका कुछ हल निकल सके।
उधर अमेरिका-तालिबान के बीच वार्ता भी कुछ प्रगति के साथ संपन्न हुई तालिबान और अमेरिका के बीच ऐसे समय में भी वार्ता जारी रही जब तालिबान ने काबुल में अमेरिका द्वारा वित्तपोषित सहायता समूह पर बमबारी की।  तालिबान के दोहा में राजनीतिक प्रवक्ता सुहैल शाहीन ने ट्वीट करके बताया कि शांति वार्ता के छठे चरण में ‘कुछ प्रगति’ हुई है और दोनों पक्षों के बीच जल्द ही अन्य चरण की वार्ता होगी। शाहीन ने ट्विटर पर लिखा कुल मिलाकर, वार्ता का यह चरण सकारात्मक और आगे बढ़ने वाला रहा। दोनों ही पक्षों ने एक-दूसरे की बातें ध्यान और धैर्य के साथ सुनी

लम्बी दूरी के हमले की तैयारी: किमजोंग
सियोल। उत्तर कोरिया के सरकारी मीडिया ने बताया कि देश के नेता किम जोंग उन ने ‘‘लंबी दूरी से हमलों’’ के अभ्यास का निरीक्षण किया। दक्षिण कोरिया ने एक दिन पहले ही कहा था कि उत्तर कोरिया ने कम दूरी की मिसाइल दागी हैं। उत्तर कोरिया की सरकारी ‘कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी’ ने कहा कि सर्वोच्च नेता किम जोंग उन ने कमान केंद्र पर लंबी दूरी के हमले के विभिन्न माध्यमों के अभ्यास की योजना के बारे में जानकारी ली और अभ्यास आरंभ करने का आदेश दिया। 
दक्षिण कोरिया ने दावा किया है कि उत्तर कोरिया ने बृहस्पतिवार को दो मिसाइलों का परीक्षण किया था। हफ्ते भर के अंदर प्योंगयांग ने दूसरी बार ऐसा किया है। यह परीक्षण ऐसे समय में किया गया है, जब परमाणु निरस्त्रीकरण को लेकर अमेरिका और उत्तर कोरिया में गतिरोध बना हुआ है। दक्षिण कोरिया के ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ ने एक बयान में कहा था कि ऐसा प्रतीत होता है कि उत्तर कोरिया ने नार्थ प्योंगन प्रांत से कम दूरी की दो मिसाइलों का परीक्षण किया है। केसीएनए के नए बयान में यह नहीं बताया गया है कि किस प्रकार के हथियारों का परीक्षण किया गया। उसने मिसाइल, रॉकेट या प्रक्षेप्य जैसे शब्दों का इस्तेमाल नहीं किया। उसने कहा कि रक्षा इकाइयों की त्वरित कार्रवाई की क्षमता की जांच के लिए किए गए तैनाती एवं हमले के सफल अभ्यास ने इकाइयों की पूरी ताकत दिखाई।


Browse By Tags