सहारनपुर: एक चूक ने पहुंचाया सलाखों के पीछे दबिश की आड़ में जीआरपी इंस्पेक्टर ने डाली थी डकैती
| Agency - 15 May 2019

सहारनपुर में डकैती डालने के आरोपी पुलिसकर्मियों ने ऑन ड्यूटी रहते हुए वारदात को अंजाम दिया। वह अपने तैनाती स्थल से कहीं बाहर जा रहे थे, इसकी सूचना उच्चाधिकारियों को भी नहीं दी गई थी। क्योंकि खाकी की आड़ में अपराध जो करने निकले थे। 

दरअसल, गेहूं व्यापारी के यहां डकैती डालने की वारदात को इस तरह अंजाम दिया गया था, जैसे पुलिस ने दबिश दी हो, लेकिन दूसरे जनपद में दबिश देने के भी नियम कायदे होते हैं। उच्चाधिकारियों को जानकारी देने के साथ ही अपने तैनाती स्थल से रवानगी करानी पड़ती है और फिर जिस जिले में दबिश देनी है, वहां के संबंधित थाने में आमद दर्ज करानी होती है। तभी वहां की पुलिस का सहयोग लेकर दबिश दी जा सकती है। 


गेहूं व्यापारी के यहां डकैती डालने में जीआरपी आगरा के इंस्पेक्टर ललित त्यागी, जीआरपी आगरा के सिपाही रिंकू और शायर बेग ने नाटक तो दबिश डालने का किया, लेकिन दिमाग में बैठे अपराधी ने गलती पर गलती करा दीं, जिस कारण दबिश के नाम पर डकैती डालना भारी पड़ गया।
 

वहीं, सहारनपुर के पुलिस अधिकारियों ने आगरा जीआरपी के अधिकारियों को घटना की जानकारी दी, तो पता चला कि उक्त पुलिसकर्मियों ने जिले से बाहर जाने की सूचना नहीं दी है। एसएसपी ने बताया कि आरोपी पुलिसकर्मी ऑन ड्यूटी थे। 


एसएसपी दिनेश कुमार ने बताया कि मामले में आरोपी इंस्पेक्टर ललित कुमार त्यागी, सुभाष शर्मा और बशीर खान को गिरफ्तार कर लूटी गई नकदी 8,43,500 में से 4,94,500 रुपये नकद बरामद किए गए हैं, बाकी 349000 रुपये सिपाही रिंकू और शायर बेग के पास बताए गए हैं। इनकी गिरफ्तारी होने पर बाकी रकम बरामद हो पाएगी। 


गेहूं व्यापारी अख्तर को जबरन कार में बैठाने की कोशिश के दौरान बशीर को पहचान लिया गया था। ढाबे पर लोगों ने विरोध किया तो अख्तर को छोड़कर आरोपी फरार हो गए थे। इसके बाद पुलिस कंट्रोल रूम को सूचना दिए जाने पर पुलिस की टीम आरोपियों की कार को तलाशने में लग गई थी। सहारनपुर-मुजफ्फरनगर मार्ग पर रोहाना टोल प्लाजा पर सीसीटीवी फुटेज में बगैर नंबर प्लेट की कार दिखाई दी, जिसमें आगे पुलिस की वर्दी पहने एक बैठा था। इसके बाद कार का पीछा करते हुए क्राइम ब्रांच और सर्विलांस टीम आगरा तक पहुंच गई थी।


 


Browse By Tags


Related News Articles