योगी ने कहा- याचना नहीं अब रण होगा
| Agency - 18 May 2019

 

योगी आदित्यनाथ की पश्चिम बंगाल मंे रैली की अनुमति को रद्द करने पर 15 मई को चैकीदार योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट किया- बंगाल! सबसे पहले जय श्रीराम से आप सबका अभिवादन। आज आपके बीच रहूंगा। तानाशाहों तक यह संदेश पहुंचे कि राम इस देश के कण-कण मंे है, स्वतंत्रता इस देश की जीवनी शक्ति है और मैं बंगाल के क्रांतिधर्मी युयुत्सु का आह्वान कर रहा हूं-
याचना नहीं, अब रण होगा,
जीवन जय या कि मरण होगा।
जय हो!
बंगाल मंे 15 मई को कोलकाता मंे होने वाली योगी आदित्यनाथ की रैली रद्द हो गयी है। भाजपा का आरोप है कि रैली के लिए बनाया गया मंच तोड़ दिया गया और मजदूरों को भी पीटा गया। योगी आदित्यनाथ ने राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की कालजयी रचना रश्मिरथी से उन पंक्तियों को उद्धरित किया है जब भगवान कृष्ण पाण्डवों की तरफ से अंतिम बार समझौते का प्रस्ताव लेकर दुर्योधन की सभा में पहुंचते हैं। दुर्योधन से कहते हैं कि पाण्डवों को आधा राज्य नहीं चाहिए, उन्हंे सिर्फ पांच गांव दे दिये जाएं। दुर्योधन कहता है कि हम सुई की नोक के बराबर भी जमीन देने वाले नहीं हैं। इतना ही नहीं दुर्योधन अपने अनुचरों को निर्देश देता है कि इस मायावी कृष्ण को बंदी बना लो। उसी समय भगवान कृष्ण कहते हैं- याचना नहीं अब रण होगा...। यह रण शुरू हो गया। भाजपा की शिकायत पर चुनाव आयोग ने एक दिन पहले प्रचार पर रोक लगा दी। पश्चिम बंगाल मंे मतदान का अंतिम चरण 19 मई को सम्पन्न होना है और जहां मतदान होगा, वे ममता बनर्जी के मजबूत गढ़ माने जाते हैं। भाजपा ममता के इसी गढ़ में सेंध लगा रही है। बंगाल मंे आखिरी चरण के मतदान से पहले गृहमंत्रालय ने चुनाव आयोग को चिट्ठी भेजकर अपील की है कि यहां पर केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) की 700 कंपनियां लगायी जाएं। गृहमंत्रालय ने अपनी चिट्ठी मंे अमित शाह के रोड शो मंे हुई हिंसा का जिक्र किया है। दिल्ली मंे भी तृणमूल कांग्रेस के खिलाफ भाजपा के लोग प्रदर्शन कर रहे थे। कोलकाता मंे भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो मंे जमकर बवाल हुआ था। हिंसा और आगजनी भी हुई। इसी बात को लेकर भाजपा आक्रामक है। दिल्ली मंे भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पत्रकार वार्ता करके ममता बनर्जी पर हमला बोला। अमित शाह ने कहा था कि पश्चिम बंगाल मंे जो घटनाएं हुई थीं, उसी की हकीकत बताने आया हूं। देश मंे कहीं पर भी हिंसा नहीं हो रही है, लेकिन सिर्फ बंगाल मंे हो रही है। अमित शाह ने खुलकर आरोप लगाया और कहा कि टीएमसी के गुंडों ने ही उनकी बाइक और गाड़ियां जलवायीं। उन्हांेने यहां तक कहा कि अगर सीआरपीएफ के जवान न होते तो उनका जिंदा निकलना मुश्किल था।
भाजपा की इस गुहार पर चुनाव आयोग सक्रिय हुआ। बताया गया कि चुनाव आयोग ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बंगाल आब्जर्बर के साथ मीटिंग की और हालात के बारे मंे तथ्य एकत्रित किये। इसी के बाद वहां चुनाव प्रचार एक दिन पहले ही खत्म कर दिया गया। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने पश्चिम बंगाल की सरकार पर गंभीर आरोप लगाये हैं। अमित शाह कहते हैं कि ममता बनर्जी सार्वजनिक रूप से धमकी दे रही हैं बदला लेने की बात कर रही हैं और नेताओं को रैलियां करने से रोका जा रहा है। ममता बनर्जी की सरकार पर हमला करते हुए अमित शाह कहते हैं कि लोकसभा चुनाव से पहले पंचायत चुनाव मंे भी तृणमूल कांग्रेस वालों ने हिंसा की थी और लोगों को डराया-धमकाया था। अमित शाह ने चुनाव आयोग पर भी सवाल खड़े किये और कहा ‘चुनाव आयोग मूकदर्शक बनकर बैठा है और तृणमूल कांग्रेस के लोग हिंसा करते जा रहे हैं। अगर चुनाव मंे ऐसा ही होता रहा तो चुनाव आयोग की निष्पक्षता पर भी सवाल खड़े होने लगेंगे। उन्होंने कहा बंगाल मंे चुनाव आयोग मूकदर्शक है, चुनाव आयोग को तुरन्त हस्तक्षेप करना चाहिए। श्री अमित शाह ने कोलकाता मंे अपने रोड शो के बारे मंे बताया कि करीब ढाई लाख लोग शामिल हुए थे। सब कुछ शांति से चल रहा था लेकिन तभी टीएमसी की तरफ से तीन हमले किये गये। उन्होंने कहा ‘ईश्वर चन्द विद्यासागर की मूर्ति भी टीएमसी वालों ने ही तोड़ी, हम तो बाहर थे, अंदर जा ही नहीं सकते थे। मेन गेट बंद था। भाजपा वाले बाहर थे तो कोई अंदर कैसे घुसा और किसने मूर्ति तोड़ दी। उन्हांेने पत्रकारों को कुछ तस्वीरें भी दिखाईं और कहा कि ये ही सबूत है कि ईश्वर चन्द विद्यासागर की मूर्ति को टीएमसी वालों ने ही तोड़ा है।

इस प्रकार भाजपा एक तरफ बचाव के रास्ते बना रही थी, दूसरी तरफ अपने हमले की तैयारी भी कर रही थी। उसे जब 15 मई को पता चला कि योगी के मंच के साथ तोड़फोड़ हुई तो कहा गया कि रैली रद्द हो सकती है लेकिन बाद मंे भाजपा अध्यक्ष अमित शाह का निर्देश आ गया। शाह ने बंगाल मंे अपने कार्यकर्ताओं से दो टूक कहा कि चाहे कुछ भी हो जाए, ये रैलियां रद्द नहीं होंगी। इसी के बाद योगी आदित्यनाथ ने बारासात मंे रैली की और कहा ममता बनर्जी एक झूठ छिपाने के लिए कई झूठ बोल रही हैं। उन्हांेने कहा ममता की सरकार दंगे भड़का रही है। योगी ने कहा कि टीएमसी के गुंडों ने अमित शाह के रोड शो मंे जो हमला किया, वही इस सरकार की अंतिम ताबूत बनने जा रही है। योगी ने पश्चिम बंगाल की जनता को याद दिलाया कि यूपी मंे पूजा का समय नहीं बदला लेकिन मोहर्रम और ताजियां का समय बदलवा दिया। योगी ने कहा ममता सरकार की एक्सपायरी डेट निश्चित है।
उधर, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री अपनी सरकार पर लगाये गये आरोपों को नकारती हैं। कोलकाता के बेहाला मंे एक जनसभा को संबोधित करते हुए ममता बनर्जी ने 14 मई को कहा- बीजेपी-आरएसएस के गुंडे बंगाल मंे हंगामा कर रहे हैं, दो गुंडे मुसीबतें पैदा कर रहे हैं। ममता ने कहा कि ‘मैंने पाया भाजपा के कुछ गुण्डों ने विद्यासागर काॅलेज मंे तोड़-फोड़ की है। हम इसे आसानी से जाने नहीं देंगे। हम मुंहतोड़ जवाब देंगे। ममता बनर्जी कहती हैं कि ‘मुझे इस पर शर्म आती है। उन्हांेने (बीजेपी) कोलकाता मंे दंगे के लिए बाहरी लोगों को बुलाया है। मैंने अपने शिक्षामंत्री से घटना स्थल पर पहुंचने और दिल्ली के गुंडे नेताओं की स्थिति की जांच करने के लिए कहा है। ममता बनर्जी ने सवाल किया कि भाजपा 
अध्यक्ष को पता भी है कि बंगाल का मतलब क्या होता है? उन्होंने (अमित शाह ने) बंगाल को कंगाल कहने की हिम्मत कैसे की? यह कहने पर उनसे कान पकड़ कर उट्ठक-बैठक कराना चाहिए। ध्यान रहे कि अमित शाह ने 13 मई को एक रैली मंे दावा किया था कि तृणमूल कांग्रेस के शासनकाल मंे सोनार बांग्ला अब कंगाल बांग्ला बन गया है।
इस प्रकार भाजपा और तृणमूल कांग्रेस मतदान के अंतिम चरण मंे आर-पार की लड़ाई लड़ने जा रहे हैं। दरअसल ये सभी सीटें तृणमूल कांग्रेस की पक्की सीटें मानी जा रही है। आगामी 19 मई को डायमंड हार्बर, जयनगर, मथुरापुर, जादवपुर, कोलकाता उत्तर और कोलकाता दक्षिण मंे मतदान होना है। कोलकाता दक्षिण से तो तृणमूल कांग्रेस का जन्म ही हुआ था। यहां पर ममता बनर्जी भाजपा को घुसने की इजाजत कैसे दे सकती हैं। इसलिए अब याचना नहीं होगी, सिर्फ रण होगा और वह भी महाभारत के स्टाइल मंे होगा। 


Browse By Tags