दोबारा परीक्षा न कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर
| Manoj Chaudhary - 01 Apr 2018

नई दिल्ली, दिल्ली के शकरपुर निवासी रिपक कंसल द्वारा दायर याचिका में कहा गया है कि बिना जांच कराए सीबीएसई द्वारा फिर से परीक्षा आयोजित करने का कोई औचित्य नहीं है. 12 वीं कक्षा की अर्थशास्त्र और 10वीं की गणित की परीक्षाओं के प्रश्न पत्र संदिग्ध रूप से लीक होने के बाद केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा इन विषयों की परीक्षा रद्द करने और उन्हें फिर से कराने के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की गई है. इस वर्ष लगभग 16 लाख 38 हजार 428 छात्र 10वीं की परीक्षा और 11 लाख 86 हजार 306 छात्र 12 वीं की परीक्षा में उपस्थित हुए, और इसलिए जिस घटना की जांच चल रही है उसके पूरा हुए बिना छात्र समुदाय को दंडित करना और 28 मार्च 2018 को (फिर से परीक्षा का) नोटिस जारी करना छात्रों के मूलभूत अधिकारों को प्रभावित करता है और यह स्वेच्छाचारितापूर्ण, अवैध और असंवैधानिक है.’’ इसने आरोप लगाया है कि परीक्षा शुरू होने से पहले सोशल मीडिया पर कई घंटे तक प्रश्न पत्र लीक होने की खबर चली.


Browse By Tags