शंकराचार्य से कमलनाथ की मुलाकात के सियासी मायने
| Agency - 16 Apr 2018

भोपाल। आजकल मध्य प्रदेश में कांग्रेस नेताओं का आना-जाना नरसिंहपुर में काफी बढ़ गया है। वरिष्ठ कांग्रेस नेता कमलनाथ के हाल ही में वहां जाकर द्वारका पीठ शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती से मिलने के बाद राजनीतिक गलियारों में कई तरह की अटकलें लगाई जा रही हैं। चर्चा है कि इस तरह पार्टी साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारी कर रही है। इस बार कमलनाथ को आगामी चुनाव में कांग्रेस की तरफ से मुख्यमंत्री पद का प्रबल दावेदार माना जा रहा है। इससे पहले कमलनाथ 9 अप्रैल को ऑल इंडिया कांग्रेस कमिटी के महासचिव दिग्विजय सिंह के साथ शंकराचार्य से नर्मदा परिक्रमा के लिए बरमन घाट पर मिले थे। गत दिनों कमलनाथ कांग्रेस नेता सुरेश पचैरी के साथ नरसिंहपुर पहुंचे। यह मुलाकात सामने तब आई, जब उनका हेलिकॉप्टर रास्ता भटक गया। राज्य कांग्रेस में चर्चा इस बात की है कि 25 मिनट तक चली इस मुलाकात में कमलनाथ और शंकराचार्य के बीच क्या बात हुई। खासकर, इसलिए क्योंकि  सुरेश पचैरी मुलाकात के दौरान बाहर ही रहे। इस बारे में कमलनाथ ने कहा कि वह शंकराचार्य से आशीर्वाद लेने गए थे। वहां जाकर उन्हें ताकत और ऊर्जा मिलती है। 
 


Browse By Tags