पुलिस की जांच में फंस कारोबारी की मौत बनी मिस्ट्री
| Manoj Chaudhary - 24 Apr 2018

गीता कालोनी 21 अप्रैल (ब्यूरो) गीता कॉलोनी निवासी रेडिमेड कारोबारी कपिल जुलका की मौत पुलिस जांच में उलझ कर रह गई है। पत्नी व बहन के द्वारा आरोपी के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज कराने के बाद भी पुलिस ने आरोपी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है। प्राथमिक जांच रिपोर्ट, पोस्टमार्टम रिपोर्ट, एफएसएल रिपोर्ट ने साफ कर दिया है कि कारोबारी कपिल जुलका की मौत आकस्मिक नहीं थी, बल्की उनको जहर देकर मारा गया था। जहर देने का आरोप मृतक के रिश्ते के भांजे पर है। जो कपिल की मौत के बाद भी पीडि़त परिवार के घर आता जाता रहा । घटना के एक साल बाद पोस्टमार्टम की रिपोर्ट व दिए गए जहर की रिपोर्ट आने के बाद पुलिस ने मामल मेंं हत्या की धाराओं में मामला तो दर्ज कर लिया है लेकिन अब पुलिस चार माह से जहर की मात्रा की रिपोर्ट आने का इंतजार करने का हवाला दे रही है। वर्ष 2016 के दिस बर माह की 11 तारीख की रात रेडिमेड कारोबारी गीता कॉलोनी निवासी कपिल की उनके ही घर में मौत हो गई थी। उनका शरीर नीला पड़ गया था। मृतक की पत्नी ने व कपिल की बहन ने मामले की शिकायत पुलिस को दी। पुलिस ने प्रथम जांच में जहर से मरने की बात कही थी। लेकिन पुलिस को हत्या का कोई अहम सुराग हाथ नहीं लगा। हालांकि चिकित्सकों की टीम ने विसरा प्रिजर्व कर लिया था। पोस्टमार्टम व विसरा रिपोर्ट में साफ हो गया कि कपिल की मौत जहर के कारण हुई थी। वहीं एफएसएल की रिपोर्ट में सामने आया कि कपिल को पेस्टिसाइड दिया गया था। पुलिस मामले में आरोपी के रिश्ते के भांजे व अन्य सदिंगध लोगों से पूछताछ की लेकिन पुलिस के हाथ कुछ नहीं लगा। जिस रात कपिल की मौत हुई थी। उस समय उसके घर पर उसका रिश्ते का भांजा मौजूद था। वह अपने साथ पेप्सी की बोतल लेकर आया था। दोनो घर के तीसरे लोर पर थे, रात करीब दो बजे वह पेप्सी की बोतल अपने साथ लेकर, वहां से चला गया। अगले दिन सुबह जब कपिल की पत्नी शालिनी उन्हेें जगाने के लिए पहुंची तो वह अपने बैड पर मृत पाए गए। उनका शरीर नीला पड़ा हुआ था। आरोपी उनके घर से पेप्सी की बातल भी ले गया उसमें पेप्सी बची हुई थी। कपिल की मौत की सूचना मिलने पर पहुंचे आरोपी व उसके अन्य रिश्तेदारों ने कपिल का पोस्टमार्टम ना कराने की बात कही थी लेकिन मृतक की बहन व उनके पति ने पोस्टमार्टम ना कराने के लिए सहमत नहीं हुए। देर रात कपिल परिवार के साथ शादी समारोह से वापस घर आए थे उसके बाद उपर की मंजिल पर वह और आरोपी रात के दो बजे तक थे, आरोपी अपने साथ पेप्सी की बोतल लाया था। बाद में बची हुई पेप्सी की बोतल अपने साथ ले गया। व पोस्टमार्टम ना कराने की सलाह देने पर उसके प्रति शक और भी गहरा गया। 
कपिल की पत्नी ने बताया कि आरोपी शव का पोस्टमार्टम करवाने से उन्हें रोक रहा था।  उसका कहना था कि, अब जो होना था हो गया, पोस्टमार्टम होगा तो पुलिस पीडि़त के परिजन को ही परेशान करेगी। कपिल की पत्नी को शक था। उसे लग रहा था उसके पति की हत्या की गई है और ये हत्या किसी और ने नहीं बल्कि उसके भांजे ने ही की है। हालांकि उस वक्त इस बात को किसी के सामने जाहिर नहीं होने दिया।
पति की मौत के बाद पीडि़ता एक साल तक थाना गीता कालोनी, पूर्वी जिला पुलिस उपायुक्त कार्यालय से लेकर अन्य पुलिस अधिकारियों के समक्ष न्याय के लिए गुहार लगाती रही तब एक साल बाद पुलिस मु यालय के आला अधिकारी के हस्तक्षेप के बाद गीता कालोनी पुलिस ने मामले में एफआईआर दर्ज की।
कपिल की मौत के बाद भी आरोपी भांजा उसके घर पर आना-जाना नहीं छोड़ा। वह पूरी तरह से निडर होकर उनके घर आता-जाता था। कपल की मौत के तीन माह बाद आरोपी ने विवाह कर लिया उसके बाद वह अपनी पत्नी को लेकर भी मृतक कपिल के घर आया था। उसे लगता था कि जो होना था अब हो गया, हालंाकि पीडि़ता को अंदेशा था कि हत्या भांजे ने ही की है।
मृतक के परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने पहले उनकी सुनी ही नहीं एक साल बाद 20 दिस बर को नामजद रिपोर्ट दर्ज कराने के बाद व तमाम रिपोर्ट में जहर से मौत होने की पुष्टी होने के बाद भी कपिल को जहर देने की गुत्थी को पुलिस सुलझा नहीं सकी। कपिल को जहर दे उसकी हत्या करने वाला आजाद घूम रहा है।
कपिल जुलका की जहर से हुई मौत के खुलासे व न्याय की आस में मृतक की पत्नी पिछले डेढ़ साल से स्थानीय थाना, पुलिस उपायुक्त, पुलिस आयुक्त व दिल्ली महिला आयोग में भी गुहार लगा चुकी हैं। लेकिन अभी तक उनके पति को जहर देने वाला आरोपी खुली हवा में सांस ले रहा है।
जिस समय कपिल की हत्या हुई थी उनकी पत्नी को भी नहीं पता था कि वह गर्भवती हैं। 12 दिसंबर 2017 को हुई कपिल की मौत के बाद 10 अगस्त को शालिनी ने बेटे समर्थ को जन्म दिया। मासूम ने जब संसार में आंखे खोली तो वह अपने सिर से अपने पिता का साया खो चुका था। वह अपने पिता का चेहरा भी नहीं देख सका।  
कपिल के परिजनों ने आशंका जताई है कि कपिल की जहर दे कर हत्या गांधी नगर के रघुबरपुरा स्थित पुश्तैनी फैक्ट्री की जमीन व कारोबार को हथियाने के लिए की गई है। मृतक की पत्नी शालिनी जुलका का कहना है कि उन्हेें अपने पति के कारोबार व लेनदेन के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। सब कुछ ठीक चल रहा था कपिल के जाने के बाद आरोपी के मामा मनमोहन जुलका कपिल के चचेरे भाई उनके पति का कारोबार देख रहे हैं। वो कहते हैं कि कपिल के जाने के बाद कारोबार ठीक नहीं चल रहा है।


Browse By Tags


Related News Articles