मिशन 2019 को लेकर भाजपा का नया दांव, बढ़ सकता है अमित शाह का कार्यकाल
| Agency - 08 Sep 2018

 नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी को लगातार चुनावी जीत हासिल कराने वाले अमित शाह ताकतवर और लोकप्रिय नेता हैं। वह शतरंज के खिलाड़ी रहे हैं जो जानते हैं कि कौन मोहरा किस जगह राजा और रानी के लिए खतरा बन सकता है। देश के 21 राज्घ्यों में भाजपा और सहयोगियों की सरकार बनवाने के साथ-साथ उन्घ्होंने भाजपा को 10 करोड़ सदस्घ्यों के साथ दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी बनाने की भी कामयाबी दिलाई है। इसे देखते हुए मोदी सरकार ने बड़ा निर्णय लिया है। भाजपा 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव मौजूदा अध्यक्ष अमित शाह की अध्यक्षता में ही लड़ेगी। वैसे तो शाह का कार्यकाल जनवरी 2019 में ही समाप्त हो रहा है लेकिन चुनावों को ध्यान में रखते हुए पार्टी ने संगठन चुनाव को एक साल के लिए टाल दिया है। सूत्रों के अनुसार भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में यह प्रस्ताव लाया जा सकता है। सूत्रों के अनुसार भाजपा अध्यक्ष की अध्यक्षता में पार्टी की एक महत्वपूर्ण बैठक हुई जिसमें कार्यकर्ताओं ने लोकसभा चुनाव में सभी को साथ लेते हुए 2014 से अधिक बहुमत से सरकार बनाना सुनिश्चित करने के लिये काम करने का संकल्प लिया है। पार्टी के राष्ट्रीय पदाधिकारियों एवं राज्य इकाई के अध्यक्षों की बैठक में ‘‘अजेय भाजपा’’ के नारे को अंगीकार किया गया। सूत्रों के अनुसार बैठक में इस साल के अंत तक मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान सहित पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव में जीत के लिये पूरा जोर लगाने का संकल्प लिया गया । मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में होने वाले विधानसभा के लिये भाजपा ने विशेष जोर लगाने की प्रतिबद्धता जतायी। पार्टी को पूरा भरोसा है कि वह 2019 के लोकसभा चुनाव में 2014 के लोकसभा चुनाव से अधिक बहुमत से जीत दर्ज करेगी ।
 


Browse By Tags


Related News Articles