माल्या के 170 करोड़ रुपये अटके
| Agency - 19 Sep 2018

भारत से हजारों करोड़ रुपये लोन लेकर ब्रिटेन फरार कारोबारी विजय माल्या साल 2017 में करीब 1.78 करोड़ पाउंड (करीब 170 करोड़ रुपये) की मोटी रकम एक स्विस बैंक में ट्रांसफर करने में सफल हुआ था. उसकी कोशिश पर ब्रिटेन सरकार ने लाल झंडी दिखाई थी, हालांकि भारतीय बैंकों द्वारा कार्रवाई में प्रक्रियागत देरी की वजह से उसे रोका नहीं जा सका। हाल में यह खबर आई थी कि  2015 में सीबीआई ने विजय माल्या के खिलाफ लुकआउट नोटिस को बदल दिया था और हवाई अड्डों पर उसे हिरासत में लेने की जगह सिर्फ उसकी यात्रा की जानकारी देने को कहा गया था। इसके कुछ दिनों बाद ही विजय माल्या देश से फरार हो गया था। इसके बाद जून 2017 में लंदन स्थित ब्रिटिश प्रशासन ने 1.78 करोड़ पाउंड (करीब 170 करोड़ रुपये) की रकम ट्रांसफर करने की माल्या की कोशिश को लाल झंडी दिखा दी थी।सूत्रों के अनुसार, इसके बाद भारतीय एजेंसियों ने सक्रियता जरूर दिखाई, लेकिन भारतीय बैंक इस मामले में प्रक्रियागत कार्रवाई करने के लिए ज्यादा समय मांग रहे थे जिसकी वजह से इस ट्रांसफर को रोका नहीं जा सका। हालांकि, इससे माल्या के ब्रिटेन में मौजूद संपत्ति को फ्रीज करने में जरूर मदद मिली, क्योंकि इसके बाद भारतीय बैंकों के कंसोर्डियम ने मिलकर ब्रिटेन सरकार से निवेदन किया था कि माल्या की ब्रिटेन में संपत्ति को फ्रीज किया जाए। माल्या के बैंक ट्रांसफर को संदिग्ध गतिविधि की सूची में डाल दिया था और इसकी जानकारी नई दिल्ली में सीबीआई और ईडी को दी थी। भारतीय बैंकों द्वारा समय लगाने की वजह से माल्या के ट्रांसफर को रोका तो नहीं जा सका, लेकिन ब्रिटेन में स्थित उसकी संपत्ति को फ्रीज करने के लिए एक वैश्विक ऑर्डर नवंबर 2017 में जारी हो गया। इस तरह ब्रिटेन में संपत्ति से माल्या का नियंत्रण खत्म हो गया।
 


Browse By Tags