सीटों के बंटवारे पर नीतीश की रणनीति
| Agency - 27 Sep 2018

पटना। एनडीए के घटक दलों के बीच सीटों के बंटवारे का मामला यूं ही नहीं उलझा हुआ है। नीतीश की पार्टी जदयू को भाजपा से पहले लोजपा से हिसाब करना है। दोनों के बीच सब कुछ ठीक रहा तो दूसरे और अंतिम दौर की बातचीत भाजपा से होगी। बीच में रालोसपा के रुख का भी इंतजार है। उसको लेकर भाजपा में ही दुविधा है। राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा भाजपा के संपर्क हैं। उनके भरोसेमंद लोग राजद में भी गंभीरता से संभावना की तलाश कर रहे हैं। एनडीए में जहां सीटों की कमी बताई जा रही है, राजद से मनमाफिक सीट मिलने का भरोसा है। 
भाजपा नेतृत्व ने जदयू को बता दिया है कि वह पहले लोजपा से बातचीत करे। जदयू जिन सीटों की मांग कर रहा है, उनमें से चार सीटें लोजपा के खाते की हैं। नालंदा में जदयू की जीत हुई थी। 10 हजार से कम वोटों के अंतर से यहां लोजपा की हार हुई थी। इस सीट पर विवाद नहीं है। मुंगेर लोजपा की जीती हुई सीट है। दूसरे नम्बर पर जदयू के राजीव रंजन सिंह ऊर्फ ललन सिंह थे। वैशाली और खगडिया पर भी जदयू का दावा है। लोजपा मुंगेर छोडने के लिए राजी है। वैशाली और खगडिया पर भी वह अड़ी नहीं है। शर्त यह है कि जदयू बताए कि वह इन सीटों की भरपाई किन-किन सीटों से करेगा। 


Browse By Tags