हर्षवर्धन ने बताया भारत में पहली बार बनेगा प्लास्टिक कचरे से जैव ईंधन
| Agency - 13 Oct 2018

नयी दिल्ली। पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री डा. हर्षवर्धन ने विभिन्न माध्यमों से निकलने वाले कचरे के पुनरू इस्तेमाल के प्रयासों को तेज करने में भारत की प्रतिबद्धता दोहराते हुये कहा कि देश में जल्द ही पहली बार प्लास्टिक कचरे से जैव ईंधन बनाया जायेगा। इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के कचरे (ई वेस्ट) के प्रबंधन पर शनिवार को यहां आयोजित अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित करते हुये डा. हर्षवर्धन ने कहा कि भारत ने अत्याधुनिक तकनीक के माध्यम से हर तरह के कचरे को ‘संपदा’ में तब्दील करने की मुहिम को तेज करते हुये प्लास्टिक कचरे से जैव ईंधन बनाने में कामयाबी हासिल कर ली है। अगले दो महीने में हम इस संयत्र में प्लास्टिक कचरे से बायो डीजल बनाना शुरू कर देंगे। 
सम्मेलन के बाद उन्होंने संवाददाताओं को बताया कि देहरादून स्थित भारतीय पेट्रोलियम संस्थान ने इस अनूठी तकनीक को विकसित किया है और जल्द ही संस्थान में इसका पहला संयत्र शुरू किया जायेगा। इसकी क्षमता प्रतिदिन एक टन प्लास्टिक कचरे से 800 लीटर बायो डीजल का उत्पादन करने की है। उन्होंने बताया कि प्लास्टिक कचरा प्रबंधन की दिशा में इस क्रांतिकारी पहल को देशव्यापी स्तर पर आगे बढ़ाया जायेगा।
 


Browse By Tags