जानिए योगी ने क्यों कहा, अब कौन बड़ा चौधरी और सतपाल को क्यों पहनाई चौधरी की पगड़ी
| Agency - 04 Apr 2019

लोकसभा चुनाव 2019 बागपत की हाईप्रोफाइल सीट पर चौधराहट की जंग तेज हो गई है। योगीजी ने कल मीरुत आकर इसे और हवा दे गए। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को किनौनी में सभा के दौरान भाजपा प्रत्याशी डॉ.सत्यपाल सिंह को दर्जनों बार चौधरी कहकर ‘अब कौन बड़ा चौधरी?’जैसा प्रश्न वोटरों के बीच छोड़ दिया। अब तक सत्यपाल सिंह के नाम के साथ ज्यादातर डॉक्टर या ‘कमिश्नर साहब’ जोड़ा जाता था। योगी के इस दांव को जाट वोटरों के बीच नए सियासी संदेश के रूप में डा सत्यपाल जी को देखा जा रहा है। जिससे चुनाव की जंग तेज़ हो गयी है 

जाट वोटरों का भावनात्मक ज्यादा लगाव चौ.चरण सिंह से बना हुआ है,लेकिन उनकी विरासत का पंछी अब अजित सिंह के सियासी बाग से उड़ चुका है। किनौनी में बागपत संसदीय सीट के लिए प्रचार में यही कही पहुंचे सीएम योगी इस बात से बखूबी वाकिफ हैं कि इस क्षेत्र में चरण सिंह की जड़ें बेहद गहरी हैं। इसलिए योगी ने संबोधन में चरण सिंह को बेशक भरपूर सम्मान दिया,किंतु आज उन्होंने चौधरी की पगड़ी डॉ.सत्यपाल को भी पहनाई। 
 

जाट एवं गुर्जर दोनों अपने नाम के आगे चौधरी लगाते हैं, लेकिन यह सरताज चौ. चरण सिंह के माथे सबसे ज्यादा चमका। इसी परंपरा के तहत उनके पुत्र एवं पूर्व कैबिनेट मंत्री अजित सिंह को ‘छोटे चौधरी’ कहा जाता है। योगी ने सधी हुई रणनीति के तहत जाट वोटों से भावनात्मक जुड़ाव के लिए सत्यपाल सिंह को दर्जनभर बार चौधरी कहा। इस बहाने क्षेत्र में ‘अब चौधराहट किसी की विरासत नहीं है’का भी संदेश दिया गया। 


सीएम योगी ने सत्यपाल के वोटरों के आगे उन्हें खास एहमियत दी और कहा कि सबसे बड़े पुलिस अफसर के पद पर रहते हुए सत्यपाल ने त्याग-पत्र दिया और सांसद बनकर क्षेत्र में ईस्टर्न पेरीफेरल बनवाकर दिल्ली और हरिद्वार को जोड़ा। केंद्रीय विद्यालय बनवाए। कहा कि गन्ने के भुगतान के लिए भी कई बार मुङो रात में फोन कर जगाया। उधर, अजित सिंह व जयंत को विदेश घूमने और दिल्ली की सियासी गलियों में दिलचस्पी लेने वाला नेता कहा। 


Browse By Tags